मिनरल इंजन ऑयल बनाम सिंथेटिक इंजन ऑयल – Mineral Oil vs Synthetic Oil

मिनरल इंजन ऑयल (Mineral Engine Oil) और सिंथेटिक इंजन ऑयल (Synthetic Engine Oil) के बारे में संक्षिप्त जानकारी

मिनरल इंजन ऑयल एक प्रकार का पेट्रोलियम आधारित ऑयल होता है जो धातुओं, मिनरलों और अन्य रसायनों के मिश्रण से बनता है। इसमें अलग-अलग गुण होते हैं, जैसे कि उच्च तापमान पर संघटित नहीं होता है, जिससे यह आग लगने की संभावना कम करता है। इसके अलावा, मिनरल इंजन ऑयल निरंतर रिफाइनरी उपकरणों के जरिए साफ किया जाता है।

वहीं, सिंथेटिक इंजन ऑयल प्राकृतिक तत्वों और अन्य संश्लेषित रसायनों का एक बेहतर बलबूता होता है, जो इसकी गुणवत्ता को बढ़ाते हैं। इसमें अलग-अलग एडिटिव भी होते हैं, जो ऑयल की जीवनकाल को बढ़ाते हैं, तापमान तक संभालते हैं, लगातार चलते हुए इंजन को संरक्षित रखते हैं और फुटप्रिंट को कम करने में मदद करते हैं।

सिंथेटिक ऑयल मिनरल ऑयल से महंगा होता है क्योंकि इसके निर्माण के लिए उच्च गुणवत्ता वाले तत्वों का उपयोग किया जाता है।

मिनरल इंजन ऑयल और सिंथेटिक इंजन ऑयल के बीच अंतर

मिनरल ऑयल और सिंथेटिक ऑयल दोनों इंजन लगाई जाने वाली ऑयल होते हैं, लेकिन इन दोनों के बीच कुछ अंतर होता है।

मिनरल इंजन ऑयल प्राकृतिक तत्वों से बना होता है जो अपने आप में अलग-अलग धातुओं का मिश्रण होता है। इस ऑयल के बनाने की प्रक्रिया सरल होती है और यह कम खर्च का होता है। मिनरल ऑयल सस्ता और आम तौर पर सभी इंजनों के लिए उपलब्ध होता है।

वहीं, सिंथेटिक इंजन ऑयल अस्थाई अधिकतम चिपचिपापन और बेहतर लुब्रिकेशन प्रदान करने के लिए निर्मित होता है। यह इंजन की जीवनकाल बढ़ाता है और अधिक गरम तापमान पर अधिक अच्छा प्रदर्शन करता है। सिंथेटिक ऑयल उच्च तापमानों पर इंजन को सुरक्षित रखता है और इसे संकुचित नहीं करता है। इसके अलावा, यह इंजन को धुऑं न करने वाले इलेक्ट्रॉनिक फ्यूल इंजेक्शन सिस्टम (EFI) वाले गाड़ियों के लिए भी उपयुक्त होता है।

मिनरल ऑयल क्या है? What is mineral oil?

मिनरल इंजन ऑयल एक प्रकार का पेट्रोलियम उत्पाद होता है जो भूमि के अंदर मिलता है। यह ऑयल रिफाइनरी में शोध कर उसमें मौजूद सभी अनुषंगिकों को निकाल दिया जाता है और एक संशोधित रूप में उपलब्ध होता है।

मिनरल इंजन ऑयल में धातु और अन्य विषाणु शामिल होते हैं, जो उपयोगकर्ता के इंजन को ग्रीसिंग करते हैं और उसके तंत्र को संरक्षित रखते हैं। यह ऑयल धातु जोड़ों की रफ्तार को कम करता है जिससे इंजन के भीतर उत्पन्न गर्मी को नियंत्रित करता है।

इसके अलावा, मिनरल इंजन ऑयल सस्ता होता है और इसे बड़े पैमाने पर उत्पादित किया जा सकता है, इसलिए यह आमतौर पर उपयोगकर्ताओं के बीच बहुत लोकप्रिय होता है।

मिनरल इंजन ऑयल के फायदे।

  1. सस्ता: मिनरल इंजन ऑयल आमतौर पर सिंथेटिक ऑयल की तुलना में सस्ता होता है। इसलिए, इसका उपयोग बड़े पैमाने पर और उन लोगों के लिए फायदेमंद होता है जो अपने गाड़ियों के लिए ऑयल के बजाय कार्बन फुटप्रिंट पर ध्यान नहीं देते हैं।
  2. संरक्षण: मिनरल इंजन ऑयल में शामिल होने वाले धातु अवशोषण के लिए अत्यधिक संरक्षण प्रदान करते हैं। इससे इंजन तंत्र लंबे समय तक स्वस्थ रहता है।
  3. उच्च तापमान: मिनरल इंजन ऑयल उच्च तापमानों तक सहन कर सकता है। यह ऑयल गाड़ी के इंजन की बेहतर रूप से काम करने की तयारी करता है और उसे अधिक गर्मी से बचाता है।
  4. प्रदर्शन: मिनरल इंजन ऑयल अधिक प्रदर्शन देता है जब उसे सही ढंग से इंजन में भरा जाता है और यह संरक्षण तथा जीवंत रखने की दृष्टि से बहुत अच्छा होता है।
  5. आसानी से उपलब्ध: मिनरल इंजन ऑयल आसानी से किसी भी मार्केट में उपलब्ध होता है।

मिनरल इंजन ऑयल के नुकसान।

  1. अधिक परिवर्तनशीलता: मिनरल इंजन ऑयल धातु अवशोषण के लिए संरक्षण प्रदान करते हैं, लेकिन यह संरक्षण कुछ समय तक ही टिकता है। इसलिए, इस ऑयल को नियमित अंतराल पर बदलना आवश्यक होता है।
  2. उच्च तापमान के लिए अनुवांशिकता: मिनरल इंजन ऑयल उच्च तापमानों के लिए अनुवांशिक होता है। यह ऑयल गाड़ी के इंजन को उच्च तापमानों से बचाने में सक्षम नहीं होता है।
  3. तरलता की कमी: मिनरल इंजन ऑयल कम तरल होता है, इसलिए यह ठंडे मौसम में गाड़ियों को शुरू करने में दिक्कत पैदा कर सकता है।
  4. प्रदूषण: मिनरल इंजन ऑयल में पाराफिन और अन्य धातु युक्तियाँ होती हैं, जो अधिक प्रदूषण करती हैं।
  5. कम जीवनकाल: मिनरल इंजन ऑयल का जीवनकाल सिंथेटिक ऑयल की तुलना में कम होता है। इसलिए, इस ऑयल को नियमित अंतराल पर बदलना आवश्यक होता है।
  6. नकली उत्पादों से भरा होना: कई बार मिनरल ऑयल को बनाने के लिए नकली उत्पादो को भरपूर रूप से प्रयोग किया जाता है। जिससे बचना अति आवश्यक है।

सिंथेटिक इंजन ऑयल क्या है? What is Synthetic Engine Oil?

सिंथेटिक इंजन ऑयल, कुछ विशेष रसायनों और पदार्थों के मिश्रण से बनाया गया ऑयल होता है। इन रसायनों के मिश्रण का उपयोग इंजन ऑयल के संरचना और गुणवत्ता को बेहतर बनाने के लिए किया जाता है। सिंथेटिक ऑयल का उत्पादन उच्च तापमान और दबाव के अंतर्गत विशेष रसायनिक प्रक्रियाओं के माध्यम से किया जाता है। यह ऑयल उच्च तापमान और तत्काल प्रतिरोध क्षमता वाला होता है जिससे इंजन के भीतर ऑयल की धार बनी रहती है और संरचना को ठीक से बनाए रखता है। इसके अलावा, सिंथेटिक इंजन ऑयल अधिक समय तक टिकता है, जिससे आपको ऑयल को बदलने की आवश्यकता कम होती है।

सिंथेटिक इंजन ऑयल में विशेष रसायनों का उपयोग किया जाता है जो मिनरल इंजन ऑयल में नहीं होते हैं। इससे यह ऑयल बेहतर धार, प्रतिरोध और उच्च तापमान दबाव से बचाव देता है। इसके अलावा, सिंथेटिक इंजन ऑयल धुने के बाद भी अपनी उत्कृष्ट धार संरचना को बनाए रखता है।

सिंथेटिक इंजन ऑयल बहुत अधिक तापमान के तहत भी काम कर सकता है। यह इंजन की ऊष्मा विकिरण दर को कम करता है जो इंजन के गर्म होने का कारण बनता है। इससे इंजन के उपयोग के दौरान उत्पन्न गर्मी को कम किया जाता है जिससे इंजन की उम्र बढ़ती है।

सिंथेटिक इंजन ऑयल के फायदे।

  1. बेहतर तकनीकी विशेषताएं: Synthetic Engine oil आपके वाहन के इंजन को बेहतर तकनीकी विशेषताएं प्रदान करता है, जैसे कि उच्च तापमान स्थायित्व, कम विस्कोसिटी इंजन की तुरंत शुरुआत और बेहतर प्रतिरक्षा धातुओं के खिलाफ।
  2. बेहतर  क्षमता: Synthetic Engine oil  क्षमता को बेहतर बनाता है, जो उच्च तापमान पर भी इंजन को सुरक्षित रखता है। यह अधिक चिकना होता है जो लगभग सभी प्रकार के इंजनों के लिए बेहतर रहता है।
  3. बढ़ी हुई जीवनकाल: Synthetic Engine oil वाहन के इंजन के लंबे समय तक उपयोग की अनुमति देता है जो की Mineral oil से कम होता है।
  4. ध्वनि कम करें: Synthetic Engine oil इंजन के ध्वनि को कम करता है,

सिंथेटिक इंजन ऑयल के नुकसान।

सिंथेटिक इंजन ऑयल उच्च गुणवत्ता वाले ऑयल होते हैं जो अधिकतर उच्च प्रदर्शन इंजनों के लिए उपयुक्त होते हैं। ये ऑयल पेट्रोलियम आधारित ऑयल से बनाए जाते हैं लेकिन इनमें विभिन्न एडिटिव्स शामिल होते हैं जो इनके गुणवत्ता और प्रदर्शन को बढ़ाते हैं।

हालांकि, कुछ लोग सिंथेटिक इंजन ऑयल के उपयोग से नुकसानों की शिकायत करते हैं। कुछ उन नुकसानों को निम्नलिखित रूपों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

  1. ऑयल लीक: सिंथेटिक इंजन ऑयल बहुत कम घनत्व वाले होते हैं, जिससे इंजन के टॉप सील में लीक हो सकता है। यह ऑयल लीक से इंजन को नुकसान हो सकता है और उपयोगकर्ता को टॉप सील के बदलाव की जरूरत हो सकती है।
  2. ऑयल की उपयोग की अवधि: सिंथेटिक इंजन ऑयल लंबी उपयोग की अवधि वाले होते हैं और इसलिए अधिक खर्चीले होते हैं। यदि उपयोगकर्ता ऑयल बदलने में लापरवाह होता है
  1. ऑयल की पोषक गुणवत्ता: सिंथेटिक इंजन ऑयल बहुत कम धुंआ पैदा करते हैं जिससे कई उपयोगकर्ता उनके पोषक गुणवत्ता पर सवाल उठाते हैं। इसका मतलब है कि ये ऑयल इंजन के निर्माण में उपयोग किए जाने वाले स्लड्ज और अन्य जहरीले तत्वों के माध्यम से पैदा होने वाले कचरे को धोते नहीं हैं।
  2. निर्माण खर्च: सिंथेटिक इंजन ऑयल की वस्तुता अधिक बाजार मूल्य वाले पेट्रोलियम आधारित तेलों से अधिक होती है। इसलिए, इन तेलों का उपयोग करने से पहले उपयोगकर्ता को उनके खर्च और अन्य विकल्पों के मुकाबले लाभों की जांच करनी चाहिए।

निरंतर उपयोग करना जरूरी हो सकता है: सिंथेटिक इंजन ऑयल का अधिक उपयोग करने से इंजन में ऑयल जमा हो सकता है जो इंजन को नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए, उपयोगकर्ताओं को अपने उत्पाद के निर्देशों का पालन करना चाहिए और नियमित अंतरालों पर ऑयल बदलना चाहिए।

मिनरल इंजन ऑयल और सिंथेटिक इंजन ऑयल इन दो तेलों में से आपके वाहन के लिए कौन सा ऑयल सबसे अच्छा हो सकता है?

वाहन के लिए सबसे अच्छा इंजन ऑयल आपकी वाहन के इंजन और उपयोग के आधार पर भिन्न हो सकता है। अधिकतर उत्पादकों द्वारा बनाए जाने वाले सिंथेटिक इंजन ऑयल एक अधिक उन्नत और उच्च गुणवत्ता वाले ऑयल होते हैं जो अधिक दायित्व का काम करते हैं। इसके अलावा, सिंथेटिक ऑयल ज्यादा समय तक चलते हैं और उच्च तापमानों में भी संभव होता है।

सिंथेटिक इंजन ऑयल उस समय उपयोग करना अधिक उपयुक्त होता है जब आपकी गाड़ी उच्च लोड और तापमान में चलती है। इसके अलावा, इंजन में वैश्विक तौर पर सुविधाजनक तापमान पर चलने वाली गाड़ियों जैसे रेसिंग वाहनों और एएमजी वाहनों में भी उपयोग किए जाते हैं।

अन्य ओवरहेट होने वाले वाहनों जैसे बड़ी ट्रक, ट्रेक्टर या ऑटोमोबाइल के लिए, मिनरल इंजन ऑयल भी उचित हो सकते हैं, इसलिए आपको वाहन और उपयोग के आधार पर अपने इंजन के लिए सही ऑयल चुनना चाहिए।

Scroll to Top